Category

mulaqat

Film, mulaqat

with GULZAR

फिर किसी शाख ने फेंकी छाँव फिर किसी शाख ने हाथ हिलाया फिर किसी मोड़ से उलझे पाँव फिर किसी राह ने पास बुलाया लब पे आता नही था नाम…Continue reading
Related posts
അദ്ധ്യാപകൻ ഗുരുവല്ല, ലഘുവാണ്-Interview Santhosh Kana
February 23, 2019
LET’S DO A FILM….
August 29, 2011