यादों के बीते सालों को आज सवेरे की कप में छानके देखा सिर्फ तुम निकल आयी। – संतोष कान्हा